रबी सीजन : किसानों को मिलेगा 1-1 हजार मीट्रिक टन खाद, हरियाणा में यहां होगा वितरित

 sonipat news, good news for farmers, haryana news, haryana news in hindi, हरियाणा समाचार, haribhoomi news, haryana news today, haryana news today in hindi, haryana samachar, top haryana news, हरियाणा समाचार हिंदी में, हरिभूमि समाचार, breaking news

सोनीपत जिले में यूरिया खाद की डिमांड पूरी करने के लिए कृषि विभाग की तरफ से प्रयास किए जा रहे है। बुधवार को सोनीपत रेलवे स्टेशन पर 2600 मीट्रिक टन खाद का रैक लगा है। जिसके बाद न सिर्फ सोनीपत के किसानों को लाभ पहुंचेगा, बल्कि दिल्ली, रोहतक व पानीपत के किसानों को भी सोनीपत से यूरिया भेजा जाएगा। अगले दो से तीन दिनों के अंदर खाद विक्रेताओं तक खाद पहुंच जाएगा। जहां से किसान खाद लेकर अपनी फसल में इस्तेमाल कर सकते है।

बता दें कि किसान मौजूद समय में रबी सीजन की फसलों की बिजाई में जुटे हुए है। जिले में लगभग 1 लाख 45 हजार हैक्टेयर भूमि में गेहूं की बिजाई करने का लक्ष्य रखा गया है। गेहूं की बिजाई के दौरान यूरिया खाद की डिमांड बढ़ जाती है। नवंबर माह में जिले में करीब 15 हजार मीट्रिक टन खाद की डिमांड बनी हुई है। डिमांड के हिसाब से किसानों को खाद उपलब्ध करवाने के लिए कृषि विभाग लगातार मुख्यालय में डिमांड भेज रहा था। ऐेसे में बुधवार को सोनीपत रेलवे स्टेशन पर यूरिया खाद का रैक लगा है। जिसे आगामी दो या तीन दिनों में किसानों के उपलब्ध करवा दिया जायेगा।

जिले में वितरित होगा एक हजार मीट्रिक टन खाद

सोनीपत रेलवे स्टेशन पर भले ही बुधवार को 2600 मीट्रिक टन खाद पहुंचा है। लेकिन सोनीपत के किसानों के हिस्से 1 हजार मीट्रिक टन खाद ही आएगा। इसमें से 1 हजार मीट्रिक टन खाद दिल्ली के किसानों को भेजा जाएगा। इसके अतिरिक्त 500 मीट्रिक टन खाद पानीपत के किसानों व 100 मीट्रिक टन रोहतक की किसानों को वितरित किया जाएगा। यूरिया खाद के साथ-साथ नवम्बर माह में डी.ए.पी. खाद की डिमांड भी काफी अधिक बनी हुई है।

विभाग की तरफ से भेजी गई डिमांड के अनुसार बुधवार को 2600 मीट्रिक टन खाद सोनीपत पहुंचा है। आगामी दो या तीन दिनों में किसानों के पास पहुंचने की उम्मीद है। जिले में करीब 1 हजार मीट्रिक टन यूरिया किसानों के लिए उपलब्ध होगा। बाकि खाद् अन्य जिलों में राजधानी दिल्ली के किसानों के लिए वितरित किया जायेगा। किसानों सेआह्वान है कि जिले में खाद की कोई कमी नही है, इसलिए अतिरिक्त स्टॉक खरीदकर न रखे। अनिल सहरावत, जिला कृषि अधिकारी।

Share this story