दिल्ली-NCR का शीतलहर ने जमकर पकड़ ली कमर छोड़ने का नाम ही नहीं ले रही, आज भी 2°C तापमान, रात तक और गिरेगा पारा!

दिल्ली-NCR का शीतलहर ने जमकर पकड़ ली कमर छोड़ने का नाम ही नहीं ले रही, आज भी 2°C तापमान, रात तक और गिरेगा पारा!

Delhi-NCR Cold Wave Today: दिल्ली में लगातार गिरते पारे के बीच ठिठुरन बढ़ी है. पहाड़ों पर हो रही बर्फबारी के असर से  मैदानी इलाकों की ठंडक में इजाफा हुआ है. राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में आज (मंगलवार), 17 जनवरी की सुबह न्यूनतम तापमान 2 डिग्री दर्ज किया गया है. लोधी रोड इलाके में 2.0°C, रिज में 2.2°C, सफदरजंग में 2.4°C और आयानगर में 2.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया है. 


मौसम वैज्ञानिकों के मुताबिक, दिल्ली में ये ठंड का दूसरा दौर है जो नए रिकॉर्ड बना सकता है. दिन में भले ही धूप निकल रही है लेकिन हवा सर्द है, जो शाम ढलते-ढलते बर्फीली हो रही है. यही वजह है कि रात में पारा 1 डिग्री के करीब जा सकता है.

आईएमडी के मुताबिक, साफ आसमान के कारण दिल्ली में अच्छी धूप निकल रही है और कोहरा नहीं है, इसलिए दिन का तापमान सामान्य चल रहा है लेकिन रात और सुबह के समय शीतलहर की स्थिति बनी हुई है. मौसम विभाग ने अभी दो दिन शीतलहर की स्थिति से राहत नहीं मिलने की संभावना जताई है. IMD के ताजा अपडेट के मुताबिक, दिल्ली में आज, 17 जनवरी को न्यूनतम तापमान 1 डिग्री सेल्सियस और अधिकतम तापमान 19 डिग्री सेल्सियस रह सकता है. 

Delhi Weather Forecast IMD Updates
इसके साथ ही आने वाले दिन दिनों में एक बार फिर हल्की बारिश और कोहरा की वापसी होगी. यानी दिल्ली में अभी ठंड का दौर बना रहने वाला है. 17 और 18 जनवरी को राजधानी में शीतलहर के स्थिति है. इस बीच न्यूनतम तापमान 1 से 2 और अधिकतम तापमान 19 डिग्री सेल्सियस रहने की संभावना है. 19 जनवरी को तापमान में बढ़ोतरी देखने को मिलेगी. हालांकि, आसमान में बादल और हल्की बारिश की संभावना है. बारिश के बाद से दिल्ली में कोहरा वापसी कर सकता है.

MeT कार्यालय ने सोमवार को कहा कि दो पश्चिमी विक्षोभों के प्रभाव में 19 जनवरी से शीतलहर की स्थिति समाप्त हो जाएगी. इसके बाद तापमान में बढ़त देखी जाएगी लेकिन कोहरे का दौर लौट आएगा.  ये स्थिति इस हफ्ते के अंत तक बनी रहेगी. बता दें कि दिल्ली में 5 से 9 जनवरी तक तीव्र शीतलहर देखी गई, जो एक दशक में महीने में दूसरी सबसे लंबी अवधि है. इस महीने अब तक 50 घंटे से अधिक घना कोहरा दर्ज किया गया है, जो 2019 के बाद सबसे अधिक है.

Share this story