30 KM तक 11 लोगों पर ताबड़तोड़ फायरिंग, 45 घंटे बाद भी नीतीश की पुलिस खाली हाथ

dhn

बिहार के बेगूसराय जिले में मंगलवार की शाम को हुयी गोलीबारी के मामले में 45 से ज्यादा घंटे बीत जाने के बाद भी आरोपी पुलिस की गिरफ्त से बाहर हैं. पुलिस अभी तक उनका सुराग नहीं लगा पाई है. बदमाशों ने 30 किलोमीटर तक फायरिंग कर 11 लोगों को गोली मारकर घायल कर दिया था. जिसमें एक व्यक्ति की मौत हो गई. मामले में पुलिस ने अपराधियों की धड़पकड़ के लिए अपराधियों का फोटो जारी करते हुए लोगों से सूचना देने की अपील की है और ईनाम देने की भी बात कही है.


बेगूसराय जिलान्तर्गत राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 28 पर मंगलवार की शाम फूलवरिया, बछवाड़ा, तेघड़ा एवं चकिया थाना क्षेत्रों में मोटरसाईकिल सवार हमलावरों ने विभिन्न स्थानों गोलीबारी की जिसमें बरौनी थाना क्षेत्र में रहने वाले चन्दन कुमार (31) की मृत्यु हो गई थी जबकि 10 अन्य व्यक्ति घायल हो गये थे. मामले में अबतक कोई गिरफतारी नहीं हुई है. हालांकि पुलिस जांच कर रही है. इसी कड़ी में बेगूसराय एसपी योगेंद्र कुमार नें घटना में शामिल अपराधियों का फोटो जारी करते हुए लोगों से सूचना देने की अपील की हैं. उन्होंने सूचना देने वाले लोगों को पुलिस द्वारा ईनाम देने की भी बात कही है.

लापरवाही के आरोप में 7 पुलिसकर्मी सस्पेंड
बदमाशों को पकड़ने और उनकी सूचना देने के लिए बेगूसराय एसपी योगेंद्र कुमार ने अपना फोन नंबर 9431800011 जारी करते हुए कहा है कि, जो भी जानकारी हो इसकी सूचना दें. सूचना देने वाले को ईनाम दिया जाएगा. वहीं मामले को लेकर बुधवार को सीएम नीतीश कुमार ने कहा है कि मामले की गहनता से जांच की जा रही है. सीएम ने एक बयान में कहा कि राज्य पुलिस घटना की पूरी जांच कर रही है. अधिकारी इस घटना के पीछे के मकसद या कारण की भी जांच कर रहे हैं. इस समय किसी भी बात पर टिप्पणी करना उचित नहीं है. अधिकारियों को पहले जांच पूरी करने दीजिए.उन्होंने कहा कि इस मामले में लापरवाही के आरोप में जिला पुलिस के सात कर्मियों को निलंबित कर दिया गया है.


“महागठबंधन सरकार आते ही जंगल राज”
बेगूसराय के सांसद तथा केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने पटना में तचीत में आरोप लगाया, बिहार में जब भी महागठबंधन सरकार आती है तो राज्य में कानून-व्यवस्था की स्थिति बिगड़ने लगती है. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अब जंगल राज को जनता राज करार दिया है जो हास्यास्पद है.

Share this story