चाणक्य निति: स्त्रियों में पुरुषों से ज्यादा होती है इस काम की इच्छा, लेकिन नही करती खुलासा

Chanakya Niti, Acharya Chanakya, Female Desire, chanakya niti for woman, woman desire chanakya niti, women physical relation desire, physical relation chanakya niti, chanakya niti book pdf, chanakya niti pdf, chanakya niti in hindi, chanakya niti book in hindi, real chanakya niti book, chanakya niti status, Sampurna chanakya neeti, Which Chanakya Niti book is best, चाणक्य नीति स्त्री, चाणक्य नीति, आचार्य चाणक्य, चाणक्य नीति की बातें, महिलाओं की इच्छा, चाणक्य नीति महिलाओं की इच्छा, महिलाओं के लिए चाणक्य नीति, चाणक्य नीति के कड़वे वचन, चाणक्य नीति की 10 बातें, चाणक्य नीति दुश्मन, चाणक्य नीति जीवन

Chanakya Niti on Female desires: आचार्य चाणक्य (Acharya Chanakya) ने अपनी नीतियों में स्त्रियों की इच्छाओं के बारे में बताया है, जिसको लज्जा यानी शर्म की वजह से वो कभी भी बताती नहीं हैं.

Chanakya Niti For Woman: महान विद्वान, नीतिशास्त्री, कूटनीतिज्ञ, शिक्षक, रणनीतिकार और अर्थशास्त्री आचार्य चाणक्य (Acharya Chanakya) ने अपनी नीति में स्त्रियों को लेकर कई बातें बताई हैं, जिससे महिलाओं के अरमानों के बारे में पता चलता है. चाणक्य ने स्त्रियों के उन कामों के बारे में भी बताया है, जिनको करने की इच्छा उनके अंदर पुरुषों से ज्यादा होती हैं, लेकिन वो लज्जा यानी शर्म की वजह से कभी भी बताती नहीं हैं. तो चलिए आपको बताते हैं कि ऐसे कौन से काम हैं जो स्त्रियों में पुरुषों की तुलना में ज्यादा करना चाहती हैं.

इस वजह से स्त्रियों को माना जाता है शक्ति का रूप

आचार्य चाणक्य (Acharya Chanakya) ने बताया है कि स्त्रियों के अंदर पुरुषों के मुकाबले छह गुना ज्यादा साहस होता है. इसलिए, उन्हें शक्ति का स्वरूप माना जाता है. चाणक्य नीति (Chanakya Niti) के अनुसार, स्त्रियों में लज्जा यानी शर्म भी पुरुषों के मुकाबले चार गुना ज्यादा होती है.

स्त्रियों में 8 गुना ज्यादा होती है ये इच्छा
आचार्य चाणक्य ने अपनी नीतियों (Chanakya Niti) में बताया है कि पुरुषों के मुकाबले स्त्रियों में काम इच्छा आठ गुना ज्यादा होती है, लेकिन लज्जा की वजह से वह इनको सामने नहीं आने देती हैं. चाणक्य के अनुसार, महिलाओं में सहनशक्ति भी बहुत ज्यादा होती है और इसी वजह से वह परिवार को अच्छे से संभालती हैं.

महिलाओं की भूख होती है ज्यादा
आचार्य चाणक्य (Acharya Chanakya) कहते हैं कि स्त्रियों को पुरुषों के मुकाबले भूख भी दोगुना लगती है यानी उनका आहार दोगना होता है. हालांकि, वर्तमान रहन-सहन और खान-पान में गड़बड़ होने की वजह से स्त्रियों का आहार कम हो गया है.

Share this story