श्रद्धा हत्याकांड में दिल्ली पुलिस ने तीसरी बार मांगी आफताब की रिमांड लेने की इजाजत, श्रद्धा के दोस्त ने मोबाइल को लेकर...

 श्रद्धा हत्याकांड में दिल्ली पुलिस ने तीसरी बार मांगी आफताब की रिमांड लेने की इजाजत, श्रद्धा के दोस्त ने मोबाइल को लेकर...
श्रद्धा मर्डर केस एविडेंस: श्रद्धा के दोस्त गॉडविन ने बताया है कि श्रद्धा के मोबाइल में एक वीडियो है जिससे वह खुद को बचा सकती थी और कॉल आने के बाद इस वीडियो की हत्या का राज खुल सकता है.

श्रद्धा मोबाइल वीडियो: श्रद्धा हत्याकांड में लगातार नए खुलासे हो रहे हैं और अब पता चला है कि श्रद्धा के मोबाइल में एक वीडियो है, जो इस हत्याकांड और आफताब के बड़े राज खोल सकता है। इस बात का खुलासा श्रद्धा के दोस्त गॉडविन ने किया है। ज़ी न्यूज़ से बात करते हुए गॉडविन ने कई राज खोले हैं और बताया है कि श्रद्धा के मोबाइल में एक वीडियो है जिससे वो खुद को बचा सकती थीं.

श्रद्धा के फोन वीडियो में छिपा है हत्या का राज!

श्रद्धा के दोस्त गॉडविन ने बड़ा खुलासा किया है कि श्रद्धा के मोबाइल फोन में एक वीडियो है, जिससे आफताब और इस मर्डर केस का बड़ा राज खुल सकता है. गॉडविन ने कहा कि श्रद्धा ने एक बार कहा था कि अगर कुछ गंभीर हुआ है तो उनके मोबाइल में एक वीडियो है ताकि वह खुद को बचा सकें। लेकिन, अब श्रद्धा का फोन कब नहीं मिल रहा और आफताब ने कहां डिस्पोज किया, इस बारे में कोई जानकारी नहीं है।

श्रद्धा की दोस्त ने मोबाइल को लेकर कई सवाल पूछे

श्रद्धा के दोस्त गॉडविन ने सवाल उठाया है कि क्या आफताब के हाथ वह वीडियो लगा? क्या इस वीडियो की वजह से दोनों के बीच हुआ था झगड़ा? और क्या इस वीडियो ने ली श्रद्धा की जान? क्या था इस वीडियो में? हालांकि अभी तक श्रद्धा का फोन पुलिस को नहीं सौंपा गया है और इन सारे सवालों का जवाब तभी मिलेगा जब फोन पुलिस के हाथ में होगा?


आफताब ने पहले भी श्रद्धा को मारने की कोशिश की थी

श्रद्धा के दोस्त गॉडविन ने बताया है कि आफताब ने पहले भी श्रद्धा को मारने की कोशिश की थी. तब श्रद्धा ने अपने ऑफिस में फोन कर मदद मांगी। उस वक्त गॉडविन भी श्रद्धा से मिले थे और उनकी मदद की थी। हालांकि, तब दोनों में सबकुछ ठीक था।

हत्या के बाद आफताब ने श्रद्धा के 35 टुकड़े कर दिए


बता दें कि मुंबई में रहने वाली श्रद्धा और आफताब एक डेटिंग ऐप के जरिए मिले और फिर प्यार हो गया। इसके बाद श्रद्धा अपना घर छोड़कर मुंबई में आफताब के साथ लिव-इन में रहने लगीं, लेकिन श्रद्धा का परिवार इसके खिलाफ था और इस वजह से वह अपने घरवालों से बात भी नहीं करती थी। कुछ महीने बाद 8 मई को श्रद्धा और आफताब दिल्ली शिफ्ट हो गए। 18 मई को दोनों के बीच किसी बात को लेकर झगड़ा हुआ और फिर आफताब ने श्रद्धा की गला दबा कर हत्या कर दी. इसके बाद उसने श्रद्धा के शव के 35 टुकड़े कर जंगल में फेंक दिया।

Share this story