हरियाणा पुलिस की थ्री-लेयर प्लानिंग: गैंगस्टर पकड़ने को बनाया नया चलाया अभियान, एक भी गोली चलाई या गैंगस्टरों की पोस्ट पर लाइक-कमेंट किया तो रडार पर आएंगे युवा..

हरियाणा पुलिस की थ्री-लेयर प्लानिंग: गैंगस्टर पकड़ने को बनाया नया चलाया अभियान, एक भी गोली चलाई या गैंगस्टरों की पोस्ट पर लाइक-कमेंट किया तो रडार पर आएंगे युवा

हरियाणा में बढ़ते गैंगस्टर कल्चर को खत्म करने के लिए सरकार हरकत में आ गई है। हरियाणा पुलिस ने अब थ्री लेयर की प्लानिंग तैयार कर ली है। प्लानिंग के तहत गैंगस्टर व शूटर की पहचान करने से लेकर उन पर एक्शन करेगी।

यही नहीं, गैंगस्टर्स के फॉलोअर्स को भी पुलिस दबोचेगी। हाल ही में पंजाबी सिंगर सिद्धू मूसेवाला और राजस्थान के गैंगस्टर राजू ठेहट के कत्ल में हरियाणा के शूटर मिले। जिसके बाद यह कदम उठाया जा रहा है।

1. गांवों पर फोकस
पहली लेयर में गांवों पर फोकस किया गया है। इसमें हर गांव में ग्राम प्रहरी के रूप में एक कांस्टेबल की तैनाती की जाएगी, जो दिन की हर गतिविधि पर नजर रखेगा। वह गांव के अपराध में संलिप्त युवाओं की पहचान करेगा और उसकी रिपोर्ट जिला मुख्यालय भेजेगा। मुख्यालय में ऐसे युवाओं की डेली मॉनिटरिंग की जाएगी।

मूसेवाला मर्डर में शामिल शूटर अंकित सेरसा और प्रियवर्त फौजी।

मूसेवाला मर्डर में शामिल शूटर अंकित सेरसा और प्रियवर्त फौजी।

2. शूटर होंगे निशाने पर
दूसरी लेयर में राज्य के शूटरों पर फोकस होगा। इस लेयर के तहत राज्य का वह हर युवा चिह्नित किया जाएगा, जिसने कभी भी गोली चलाई है। राज्य भर में ऐसे युवाओं की पहचान कर लिस्ट बनाई जाएगी। साथ ही उनका बैकग्राउंड भी पुलिस खंगालेगी। रिपोर्ट में यह भी सुनिश्चित किया जाएगा कि युवा के खिलाफ आपराधिक मुकदमा दर्ज है या नहीं।

3. सोशल मीडिया फैन फॉलोइंग की पड़ताल

तीसरी लेयर के तहत सोशल मीडिया पर फोकस करेगी। इस लेयर में क्रिमिनल्स और गैंगस्टरों को फॉलो करने वाले युवाओं को पुलिस चिह्नित करेगी। यदि कोई युवक इनके सोशल मीडिया पोस्टर पर कमेंट या लाइक करता है तो वह पुलिस के टारगेट पर आ जाएगा। उसकी पहचान कर रिपोर्ट में शामिल किया जाएगा।

क्यों पड़ी जरूरत

गैंगस्टरों के खिलाफ थ्री लेयर प्लानिंग की जरूरत हरियाणा पुलिस को क्यों पड़ी? इसकी वजह हाल ही में हुए दो बड़े मर्डर हैं। पुलिस अधिकारियों के अनुसार पंजाबी गायक सिद्धू मूसेवाला हत्याकांड में हरियाणा के शूटर अंकित सेरसा, प्रियवर्त फौजी, कशिश, सचिन भिवानी, संदीप केकड़ा समेत कई गैंगस्टर्स के नाम सामने आए। फिर कुछ दिन पहले राजस्थान में गैंगस्टर राजू ठेहट का मर्डर हो गया। उसमें भी हरियाणा के जतिन और सतीश का नाम सामने आया। इसके बाद हरियाणा सरकार को भी विपक्षी दलों व दूसरे राज्यों की सरकारों की आलोचना झेलनी पड़ी।

हरियाणा पुलिस की प्लानिंग का क्या क्या फायदा?
अभी बड़ी वारदात के बाद पता चलता है कि हरियाणा के युवा शूटर या गैंगस्टर बन चुके हैं। इसके बाद उनकी अपराध की दुनिया से वापसी संभव नहीं हो पाती। पुलिस इस प्लानिंग से उन्हें शुरूआत में ही पहचान कर अंकुश लगाएगी। ऐसे में शूटर या गैंगस्टर की नई खेप को रोका जा सकेगा। पुलिस का डर होगा तो युवा इस तरफ कम आकर्षित होंगे। वहीं पुलिस के पास अपराधियों का ग्राउंड लेवल का डेटा तैयार होगा। इससे कोई क्राइम होने पर क्रिमिनल्स की चेन तोड़ने में आसानी रहेगी।

हरियाणा के 9 कुख्यात गैंगस्टरों के सोशल मीडिया पर नजर
हरियाणा में 9 ऐसे गैंगस्टर हैं जो सोशल मीडिया पर खूब एक्टिव हैं। इनमें कौशल चौधरी, नीरज बवाना, अशोक प्रधान उर्फ सेट्‌टी, विजय माले, अमित डागर, संपत नेहरा, काला जेठड़ी, भूप्पी राणा और नवीन बाली शामिल हैं। इन गैंगस्टरों के सोशल मीडिया पर लाखों फॉलोअर हैं। इनमें नीरज बवाना और कौशल चौधरी सबसे टॉप पर हैं। हरियाणा पुलिस इनके नाम से बने अकाउंट़्स पर नजर रखेगी कि उन पर हरियाणा का कौन सा युवक कमेंट कर रहा है।

दूसरे राज्यों में एक्टिव हरियाणा के गैंगस्टर अब चिह्नित किए जाएंगे। इसके लिए हरियाणा पुलिस क्रिमिनल इंटेलिजेंस सिस्टम बनाने जा रही है। इस सिस्टम के जरिए पुलिस गैंगस्टर और क्रिमिनल्स का खुफिया डाटा तैयार कर उन पर नजर रखेगी 

Share this story