दाढ़ी वाली महिला: दिन में 2 बार शेविंग...हर हफ्ते वैक्सिंग, इस कारण से रखी है ये घनी बियर्ड

दाढ़ी वाली महिला: दिन में 2 बार शेविंग...हर हफ्ते वैक्सिंग,  इस कारण से रखी है ये घनी बियर्ड

Woman With Beard: उम्र बढ़ने के साथ-साथ लड़कों की दाढ़ी-मूंछ आने लगती है. अगर किसी लड़के में ह्यूमन ग्रोथ हार्मोन की कमी होती है तो बियर्ड और मूंछ की ग्रोथ रुक जाती है और वहीं अगर महिलाओं में हार्मोंस इम्बैलेंस हो जाते हैं तो उनकी दाढ़ी-मूंछ आ जाती है. हाल ही में एक मामला सामने आया है जिसमें एक महिला की दाढ़ी-मूंछ आ गई हैं और वह 'बियर्ड लेडी' नाम से फेमस है. यह महिला कौन है और महिलाओं में बियर्ड-मूंछ आने के क्या कारण होते हैं? इस बारे में आर्टिकल में जानेंगे. 


कौन है यह महिला

दाढ़ी वाली महिला का नाम परफॉर्मर डकोटा कुके (Performer Dakota Cooke) है जो 30 साल की हैं. अमेरिका के लास वेगास की रहने वाली परफॉर्मर दिन में दो बार शेविंग करती थीं. परफॉर्मर के मुताबिक, जब वह 13 साल की थीं तब उनके दाढ़ी आनी शुरू हो गई थी. पहले वह वैक्स से बाल हटाया करती थीं लेकिन अब उन्होंने शेव और वैक्स करना बंद कर दिया है. 

13 साल की उम्र से आ रहे हैं बाल

परफॉर्मर जब 13 साल की थीं तब उनके चेहरे पर पहली बार बाल आना शुरू हुए थे. जब उन्होंने देखा कि उनके चेहरे पर काफी अधिक बाल हो रहे हैं तो वह डिप्रेशन का शिकार भी हो गई थीं. शुरू में वह हफ्ते में दो बार शेव करती थी और हर हफ्ते वैक्सिंग भी कराती थी. परफॉर्मर ने अपने चेहरे पर इतनी बार शेविंग की कि उनके चेहरे पर निशान बन गए. उनका चेहरा लाल हो जाता था और उसमें खुजली भी होती थी. इस समस्या के कारण उन्होंने शेव और वैक्सिंग करना बंद कर दिया. 


डॉक्टर्स के मुताबिक, परफॉर्मर के चेहरे पर दाढ़ी का आना उनके शरीर में टेस्टोस्टेरोन का लेवल ज्यादा होने के कारण हो सकता है. 2015 में जब वह अपनी एक दोस्त से बात कर रही थीं तब उन्होंने सर्कस में एक दाढ़ी वाली महिला देखी और जाकर उससे बात की. परफॉर्मर उनकी बात से इतनी प्रभावित हुई कि उन्होंने रेजर और वैक्सिंग को छोड़ने और अपने चेहरे के बालों को बढ़ने देने का फैसला किया.

महिलाओं को दाढ़ी-मूंछ आने के कारण

कुछ महिलाओं के शरीर के कुछ हिस्सों में अधिक बाल आ जाते हैं. यह बाल होठों के ऊपर, ठुड्डी, चेस्ट, पेट के निचले हिस्से पर होते हैं और समय के साथ मोटे भी हो जाते हैं. यह भी कह सकते हैं कि पुरुषों के शरीर के जिन हिस्सों में मोटे बाल होते हैं महिलाओं के भी उन्हीं हिस्सों में बाल मोटे हो जाते हैं. मेडिकली भाषा में इस कंडिशन को हिर्सुटिज्म (Hirsutism) कहते हैं. शरीर में मेल हॉर्मोन के बढ़ने से या फीमेल हॉर्मोन के कम हो जाने से हार्मोन इम्बैलेंस हो जाता है और कई जगहों पर अनचाहे बाल आ जाते हैं.

हिर्सुटिज्म एक ऐसी स्थिति है जिसमें आपके शरीर के कुछ हिस्सों पर अतिरिक्त बाल उग आते हैं. हिर्सुटिज्म में महिलाओं के शरीर पर अनचाहे बाल आने के साथ आवाज भारी हो जाती है, ब्रेस्ट साइज कम हो जाता है, मसल्स ग्रोथ हो जाती है, सेक्स ड्राइव बढ़ जाती है, एक्ने आ जाते हैं. जिन महिलाओं को PCOS की समस्या होती है उनमें से 70-80 प्रतिशत महिलाओं को हिर्सुटिज्म की संभावना होती है.

हिर्सुटिज्म के कई कारण हो सकते हैं. यह कंडिशन पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम, एंड्रोजन का प्रोडक्शन, अधिक मेडिकेशन, मेनापॉज के बाद, कुशिंग सिंड्रोम आदि के कारण हो सकती है. यह कंडिशन भूमध्यसागरीय, हिस्पैनिक, दक्षिण एशियाई या मध्य पूर्व के रहने वाली महिलाओं में अधिक देखी जाती है.

Share this story